WeCreativez WhatsApp Support
Our customer support team is here to answer your questions. Ask us anything!
Hi, how may we help you?

Spiritualistic, Ayurvedic and homeopathic treatment of Corona

, Spiritualistic, Ayurvedic and homeopathic treatment of Corona, TushyaShakti.com, TushyaShakti.com

कोरोना से भी भयानक कीटाणुओं को मार गिरायेगा ये उपाय

उपाय जानने से पहले आप एक प्रसंग पढ़ो।

एक राज्य में भयंकर महामारी फैली। महामारी में लाखों लोग मर गये। राजा ने अपने बुद्धिमान मंत्री को महामारी का कारण पता लगाने के लिए भेजा। जब मंत्री लौटे तो राजा से महामारी का कारण बताया और साथ ही यह भी बोले, “राजन ! महामारी के कारण तो ४०-५० लोग ही मरे। बांकी के लाखों लोग उसके डर से ही मर गये।”

आध्यात्मिक उपाय :
गूगल का धुप करें और उसपर कपूर का थोड़ा चूरा डाल दें। ८-१० प्राणायाम करें। प्राणायाम करते समय निम्न मन्त्रों का जप करें :
१। ‘रोगान शेषान पहंसि तुष्टा रूष्टा तु कामान्सकलान भीष्टान्॥
त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रिता ह्याश्रयतां प्रयांति॥

२। नासै रोग हरै सब पीड़ा, जपत निरंतर हनुमत बीड़ा।
३। महामृत्युंजय मन्त्र :
ॐ ह्रौं जूं स:। ॐ भूर्भव: स्व:। ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्। स्व: भुव: भू: ॐ। स: जूं ह्रौं ॐ।

नित्य प्रातः उत्कृष्ट हवन सामग्री से हवन करें।

, Spiritualistic, Ayurvedic and homeopathic treatment of Corona, TushyaShakti.com, TushyaShakti.com

कोरोना से सुरक्षा हेतु आयुर्वेदिक उपाय

१। तुलसी के ५-७ पत्ते चबाकर खा लें और ऊपर से सामान्य जल पी लें। ऐसा प्रतिदिन करें। यह कोरोना के कीटाणुओं को आपके शरीर में प्रवेश करने से रोकेगा। अगर प्रवेश कर गये होंगे तो उन्हें नष्ट कर देगा।
२। भोजन में कच्चे प्याज का सेवन करें। यह हर प्रकार के हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट करने की क्षमता रखता है।
अपने आस-पास कच्चे प्याज काट कर रख देवें। इससे वातावरण में उपस्थित सभी तरह के कीटाणुओं का सफाया हो जायेगा।
नोट : प्याज छिलने/काटने के पश्चात ५ मिनट के भीतर उसे उपयोग कर लेना चाहिए अन्यथा वह हानिकारक हो जाता है। अगर कीटाणुओं से रक्षा के लिए आस-पास प्याज़ काटकर रखा हो तो उसे ३-४ घंटे रहने देवें और बाद में फेंक देवें।
३। अरडूसी, गिलोय, सोंठ, कालीमिर्च, दालचीनी, निर्गुन्डी, नीम के चूर्ण संभाग लेकर उसमें गुड़ मिलाकर थोड़ा गरम करें और मटर के दाने के बराबर गोलियां बना लें। दिन में दो-तीन बार एक गोली चूसते रहें।
४। दालचीनी के छोटे टुकड़े दिन में दो-एक बार मुँह में रखकर चूस-चूस कर खाते रहें।
५। अकरकरा के १-२ इंच के टुकड़े मुँह में रखकर चूस-चूस कर खाएं। ऐसा दिन में दो बार करें।

यह हर प्रकार के संक्रमण, कोरोना तथा इससे भी घातक कीटाणुओं का रामबाण उपचार है। इसे दिन में दो-एक बार चूसते रहने से कोरोना का कीटाणु गले के नीचे जा ही नहीं पायेगा, गले में ही नष्ट हो जायेगा।
अगर किन्हीं के गले से नीचे फेफड़ों में चला गया हो तो अकरकरा कीटाणुओं को वहां भी नष्ट कर देगा तथा फेफड़े को स्वच्छ और स्वस्थ कर देगा।
दो बार से अधिक न लें क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है।


६। तुलसी के पत्ते, नीम के पत्ते, अरडूसी, गिलोय, निर्गुन्डी, अदरक, कालीमिर्च, तेजपत्ता, हल्दी को मिलाकर ५०० मिली पानी में उबालें। जब यह मिश्रण २५० मिली रह जाये तो उतारकर, छानकर पी लें। आवश्यकतानुसार चीनी या गुड़ मिला सकते हैं। यह काढ़ा अचूक उपाय है। संक्रमण नाश की एक उत्कृष्ट औषधि होने के साथ-साथ यह एक उत्तम ज्वरनाशक भी है।
७। एक गिलास दूध में ५ ग्राम हल्दी मिलाकर पियें।
८। पीने के लिए उबले हुए गुनगुने पानी का उपयोग करें।

, Spiritualistic, Ayurvedic and homeopathic treatment of Corona, TushyaShakti.com, TushyaShakti.com


९। नहाने के पानी में गोमूत्र मिलाकर नहाएं। गोमूत्र अर्क उपलब्ध न हो तो ताज़ा गोमूत्र का उपयोग अधिक लाभदायी है।
१०। ताजे गोबर में पानी मिलाकर घोल तैयार करें और घर के आस-पास छिड़काव कर दें।

११। गोबर के कंडे जलाकर नीम के सूखे पत्ते उस पर जलाएं। खूब धुआं होने दें। यह धुआं घर के सभी कमरों में करें।

हाथ धोने का विकल्प :

हैंड सैनिटाइजर के स्थान पर निम्न उपाय कर सकते हैं :
हाथ स्वच्छ रखने के लिए बाजार में उपलब्ध ‘हैंड सैनिटाइजर’ के स्थान पर गोमूत्र अर्क को पानी में मिलाकर उपयोग कर सकते हैं। ५०० मिली गोमूत्र अर्क को लगभग ५ लीटर पानी में मिलाया जा सकता है। इससे घर में पोछा भी कर सकते हैं।

अगर किसीको कोरोना हो गया हो तो :

  • ऊपर बताये उपाय तो करें ही साथ ही गोखरू चूर्ण सादे पानी के साथ २-५ ग्राम लें। यह औषधि सुबह-शाम लें। यह किडनी और मूत्र संसथान में कोरोना के कीटाणुओं द्वारा फैले दुष्प्रभाव का सफाया कर देगा।
  • ऊपर जो काढ़ा बनाने की विधि बताई गयी है उसका नस्य भी लें। यह फेफड़ों में आ चुके कीटाणुओं को भी नष्ट कर देगा।

कोरोना से सुरक्षा हेतु होम्योपैथिक उपचार

आर्सेनिक एल्बम ३० C

किसी होमिओ स्टोर से ‘आर्सेनिक एल्बम ३० C’ अर्थात ३० पोटेंसी में ले लें। दवा सील बंद ही लें। अगर विश्वसनीय दुकानदार है तो उसके लेबल का भी ले सकते हैं जो सील बंद से थोड़ा सस्ता पड़ेगा। अविश्वसनीय दुकानदार अनुपलब्धता की स्थिति में दूसरी दवाएं भरकर दे देते हैं।
प्रतिदिन सुबह इसे ३ बून्द जीभ पर टपका लें अथवा एक कप सादे पानी में मिलाकर ले लें। अगर कोरोना से संक्रमित नहीं हैं तो केवल तीन दिन यह दवा लें। यह दस दिनों तक आपकी रक्षा करेगा। हर १० दिन में ऐसा करें।
अगर कोरोना का संक्रमण शुरू हो चुका है तो यह दवा प्रतिदिन लगभग १५ दिनों तक लें।

कैलेंडुला ऑफिसिनेलिस टिंक्चर :


यह दवा विषाक्तता को दूर करती है। संक्रमण के दुष्प्रभाव को नष्ट करती है।
एक कप सादे पानी में १० बून्द दवा सुबह-शाम लें।

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचायें ताकि सभी को लाभ मिल सके।

Like/Share on social platform & Earn 1 TSP/share
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 3
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *